इस मुस्लिम देश में नहीं होता कभी किसी लड़की के साथ दुराचार, अपराधियों की रूह काँप जाती है यहाँ

हर देश का अपना अलग अलग कानून होता है. ऐसा माना जाता है कि और लोगों द्वारा कहा भी गया है, और ये झूटा प्रचार भी किया गया कि इस्लाम में महिलाओं को इज़्ज़त का दर्ज़ा नहीं दिया गया, हमेशा मर्दों को ज्यादा महत्त्व दिया गया, और इस्लाम पुरुषवादी और रूढ़िवादी है.

लेकिन आपको बता दें कि कुरआन में सबसे पाक दर्ज़ा औरतों को ही दिया गया. यदि कोई कुरआन को अपने दिल में उतारे उसे सच्चे दिल पढ़े तो वो कभी भी इस्लाम में महिलाओं की बुराई नहीं सुन पायेगा.

लेकिन भारत सभी धर्म के लोग बसते है यंहा पर कोई भी धर्म को लेकर झगड़ा करने लगता है और भारत में हिन्दू और मुस्लिमों में कई दसकों से दुश्मनी रही है. लेकिन भारत में हर एक घंटे में 5 लड़कियों से दुराचार होता है जोकि भारत के शर्म की बात है. भारत में अब इंसानियत पूरी तरह से मिट चुकी है. सभी लोग लड़कियों एवं बच्चियों को अपनी हैवानियत का शिकार बना रहे है.

भारत में हो रहे दुराचारों पर रोक लगाना असंभव है क्योंकि यंहा पुलिस से लेकर जज और जज से लेकर राजनेता सभी में भृष्टाता भरी हुई है. और यंहा का कानून केवल पैसे वालों की सुनता है. और पैसा खिलाकर कोई भी अपराधी आसानी से दुराचार और हत्या, लूट जैसी कई बारदातों अंजाम देकर छूट जाते है.

और इसी वजह से पूरी दुनिया में भारत की किरकिरी हो रही है. भारत में मां, बहन, बेटी, और बहु किसी को नहीं बक्शा जाता है. यंहा हर किसी की नज़र में हैवानियत है.

बलात्कार एक ऐसी घटना है जो महिलाओं कमजोर बना देती है. जिसकी वजह से देश भी कमजोर होता है. जिस किसी के साथ ये घिनौना कुकृत्य और दुराचार जैसी घटना होती है. वो घटना उन्हें मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर बनाती है. ये बहुत ही शर्मनाक है भारत के लिए कि यंहा महिलाओं की सुरक्षा के लिए कोई सख्त कानून नहीं है.

अन्य देशो की बात की जाए तो वंहा भारत के मुकाबले बहुत काम दुराचार होते है क्योंकि अन्य देशों में इस जुर्म की सज़ा बहुत ही दर्दनाक है. सऊदी अरब में ऐसा काम करने वाले का सर काट दिया जाता है तो वंही चीन और कोरिआ में सारे आम गोली मार दी जाती है.

लेकिन भारत में ऐसा नहीं है यंहा आरोपी को रिस्वत लेकर छोड़ दिया जाता है, और यदि आरोपी को पकड़ भी लिया जाता है तो कई सालों तक उस पर केस चलता रहता है बस इन्ही भारत का कानून है.

पूरी दुनिया में सबसे कम दुराचार या यूँ कहे कि ना के बराबर ऐसे काम होते हैं ये एक मुस्लिम देश जिसका नाम इंडोनशिया है, होते है. क्योंकि यंहा महिलाओं के दर्द को समझा गया है पूरी दुनिया में यही एक देश है जिसने दुराचारियों के लिए ऐसी सज़ा देता है जो किसी देश ने आज तक सोची भी नहीं होगी.

आपको बता दें की यंहा का कानून इस मामले पूरे मुल्कों में बेहद सख्त है यंहा पर कुकर्म करने वालों को मौत से भी बड़ी सजा दी जाती है. देखने वालों तक की रूह काँप उठी है. यंहा पर कुकर्मी को एक रासायनिक पदार्थ के द्वारा न पुंसक बना दिया जाता है. और इसलिए यंहा ऐसे गलत काम बहुत कम होते है.