बकरी से दुष्कर्म करने की साजिश का पर्दाफाश हुआ, मुसलमानों की छवि धूमिल करने की योजना विफल

देश में नाबालिग लड़कियों के बलात्कार की खबरें रोजाना सुर्खियों में आ रही थी. लेकिन 2 दिन पहले एक ऐसी खबर ने सबको चोंका कर रख दिया जिसकी किसी को उम्मीद भी नहीं थी. और वाकई में ये खबर देश की छवि को धूमिल कर्देनेवाली थी.

इलेक्ट्रोनिक और प्रिंट मीडिया में बड़े जोर शोर से ख़बरें ब्रेकिंग न्यूज़ बन रहीं थी. बताया जा रहा था कि हरियाणा के मेवात इलाके में कुछ मुस्लिम नौजवानों ने एक गर्ववती बकरी के साथ दुष्कर्म किया और बकरी की घटना के तुरंत बाद मौत हो गई.

यहां तक की इस मामले को लेकर थाने में FIR भी दर्ज हो चुकी है. और 8 लोगों के खिलाफ धारा 377 और एनिमल एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जा चुका है.

देश का चाहे कोई भी तबका रहा हो, जिसने इस खबर को सुना वह आग बबूला हो गया, इसी के साथ ही देश में हो रहे नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म और तमाम ऐसी बड़ी खबरें दब गई जो किसी न किसी तरह सरकार को कटघरे में खड़ा कर सकती थी. या सरकार पर सवाल उठाए जा सकते थे.

देश के लगभग सभी मीडिया चैनलों के साथ-साथ ये खबर इंटरनेशनल मीडिया में भी खासी सुर्ख़ियों में रही. विदेशी मीडिया भी भारत की छवि धूमिल करने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रही थी. उनको हमारे देश की दलाल मीडिया जो किसी भी खबर को दिखने के जल्दी में कुछ भी ब्रेकिंग न्यूज़ बना के चला देती है इसने भी विदेशी मीडिया को मसला दे दिया था.

हरियाणा के मेवात में हुयी इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर मुस्लिम युवाओं को जमकर कोसा जाने लगा. इसके बाद पुलिस में यह मामला गया और बकरी का पोस्टमार्टम करवाया गया जिसकी रिपोर्ट में बकरी को अंदरुनी चोटें आने से मौत के वजह बताई गयी.

सबूक के टूर पर यहाँ आपको BBC हिंदी का एक स्क्रीनशॉट दिखाया गया है और ये 30 जुलाई 2018 की न्यूज़ जो इस शीर्षक के साथ “आख़िर कोई इंसान पशु से सेक्स क्यों करना चाहता है” पब्लिश की गयी है आप जाकर देख सकते हैं.

हमारे देश के कुछ चैनल घटना के तुरंत बाद मामला अदालत में जाने से पहले ही जज बनकर खबर के साथ तुरंत ही फैसला दिखा देते हैं. इससे पहले भी खबर दिखाने की जल्दबाजी में उन्होंने देश की जनता को कई बार गुमराह.

इससे पहले भी देश में ऐसी घटनाओं को या तो तोड़-मरोड़कर या फिर उसके साथ किसी समुदाय विशेष को जोड़कर बदनाम करने की साजिश का खुलासा और इसका कई बार हमने पर्दाफाश किया है.

जब भी देश में किसी मंदिर के पुजारी यह बाबा के द्वारा नाबालिग लड़कियों के साथ बलात्कार करने की घटनाएं होती हैं या फिर किसी बड़े कांड को दबाना होता है उस दिन हमारे देश की मीडिया दिन भर के लिए ऐसा मसाला तैयार कर ही लेती है भारत की बेवकूफ जनता बार-बार और हर बार उनके झांसे में आ जाती है.

देश की गंभीर समस्याओं और कई ऐसे जरूरी मुद्दों को ना बताते हुए किसी न किसी फालतू बात को लेकर जनता का ध्यान भटकाने के चलते ही पिछले दिनों एक कांग्रेस प्रवक्ता ने एक बड़े चैनल के पत्रकार को भादवा और दलाल कहा था.

और उसके बाद चैनल के एंकर ने उनसे माफी मांगने की अपील भी की उसके बार-बार अनुरोध करने पर भी कांग्रेस प्रवक्ता बोले कि मैं अपनी बात पर कायम हूं अगर आपने मुझे ज्यादा फोर्स किया मैं आपको बार-बार दलाल और भडवा कहूंगा.

देश के कई चैनल बेमतलब के मुद्दों की डिबेट करा कर देश की जनता को भटका रहे हैं. देश में वह दिन कब आएगा जब हमारा मीडिया देश के जरूरी मुद्दों को ना केवल दिखाएगा और डामाडोल कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को कटघरे में खड़ा करेगा यह दिन देखना बाकी है.