डा. कफील को जेल में आया हार्ट अटैक,पुलिस ने कहा..इमरजेंसी में नही होगा इलाज़ बताई मज़बूरी

लखनऊ-बीआरडी मेडिकल कालेज आक्सीजन कांड के आरोपित डा. कफील को 28 मार्च को जेल में हार्ट अटैक आया था. इसके बाद उनको आनन-फानन में उन्हें जिला अस्पताल के हृदयरोग विभाग से डॉक्टर बुलवाकर दिखाया भी गया था.

डाक्टर कफील खान की पत्नी डा. साबिस्ता खान ने आरोप लगाया है कि तबीयत खराब होने के बाद भी उनका सही इलाज नहीं कराया जा रहा है.

सबिस्ता खान नने कहा कि जेल प्रशासन की लापरवाही से उनके पति का वज़न ठ किलो वजन घट गया है उन्होंने कहा कि उन्हें आशंका है कि कहीं एनआरएचएम की तरह ही मुख्य आरोपितों को बचाने के चक्कर में उनके पति की भी जान न ले ली जाए.

जेलर ने कहा..

वरिष्ठ जेल अधीक्षक डा. रामधनी का कहना है कि डा. कफील की तबियत खराब होने पर जिला अस्पताल के हृदयरोग के डॉक्टर को बुलवाकर दिखाया गया था.उन्होंने चेकअप किया और दवाएं दी.हालत में सुधार है.उन्होंने माना कि कफील को किसी हायरसेंटर से दिखाने और जांच कराने का सुझाव दिया था.

फोर्स की मांग की गई है.फ़ोर्स मिलने के बाद ही उन्हें दिखाया जायेगा.गौरतलब है कि 28 मार्च के बाद काफी वक़्त बीत चुका है. इसके अलावा,हिंदुस्तान की एक खबर के अनुसार.. पूर्व प्राचार्य डा. राजीव मिश्र और उनकी पत्नी डा. पूर्णिमा शुक्ला के साथ भी जेल में अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है.

डा. राजीव का वजन भी काफी कम हो गया है.वे चलने-फिरने में अस्मर्थ हैं.डा. पूर्णिमा जेल में गिर गई थी पीठ में हेयर फ्रैक्चर आया था लेकिन उनका भी इलाज नहीं कराया जा रहा है.