जिन्ना से तुलना करना गलत हमने कभी भी देश के टुकड़े करने की बात नहीं की: ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी अपने बेबाक अंदाज के लिए जाने जाते है. ओवैसी अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में बने रहते है ओवैसी अपने ऊपर किये गए हर हमले का जबाव ऐसे देते है कि सामने वाले की बोलती ही बंद हो जाती है. इस बार ओवैसी ने जिन्ना को लेकर बड़ा बयान दिया है.

ओवैसी का कहना है कि उन्होंने की देश के टुकड़े करने का प्रयास नहीं किया इसलिए जिन्ना से उनकी तुलना करना बिल्कुल गलत है. इतना ही नहीं ओवैसी ने मुस्लिम राजनीति और 2019 के लोकसभा चुनावों को लेकर भी बेबाकी दिखाई है.

एक न्यूज़ चैनल से बातचीत करते हुए ओवैसी ने कहा कि उनकी तुलना मोहम्मद अली जिन्ना से नहीं की जानी चाहिए. हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने कहा कि वह हमेशा भारत के संविधान में विश्वास करते हैं और उसका अनुपालन करते हैं. इसलिए उनकी इस तरह किसी से तुलना नहीं की जानी चाहिए.

ओवैसी ने कहा कि वह मुस्लिमों की राजनीति नहीं करते लेकिन यह वर्ग दबे कुचले और शोषित लोग हैं इसलिए उनके उत्थान की बात करते हैं. उन्होंने कहा कि मुस्लिमों को अब तक सिर्फ और सिर्फ वोट बैंक के रूप में देखा गया है. यही कारण है कि देश की आजादी के 70 साल बाद भी इस वर्ग का विकास नहीं हो पाया है.

वहीँ जब उनसे कश्मीरी पंडितों को वापस कश्मीर में बसाए जाने के सवाल पर ओवैसी ने कहा कि उनकी घर वापसी होनी चाहिए. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि उनको कश्मीर में पूरे सम्मान के साथ और सही ढ़ंग से बसाया जाना चाहिए. इसके आलावा ओवैसी ने इस दौरान पीएम मोदी पर भी निशाना साधा.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने देश की जनता को बहुत ही निराश किया है. उन्होंने जो वादे चुनाव से पहले किए थे वो आज तक पूरे नहीं किये गए है. साथ ही असम में एनआरसी के मुद्दे पर बोलते हुए ओवैसी ने कहा कि जिन लोगों के नाम ड्राफ्ट में नहीं आए हैं उनको घुसपैठिया कहना गलत है.