रमजान विशेष: हिन्दू बहन राखी ठाकुर ने रखा रोज़ा, मुस्लिम पडोसी फारूक ने दिया पहला निवाला

भुसावल: पवित्र माह रमजान में जहां दुनिया भर में इबादतों का दौर चल रहा है, ऐसे में धर्म संप्रदाय की एकता की मिसाल का एक अनूठा संगम भी देखने को मिला।

शहर का ही एक हिंदू परिवार की बेटी ने रविवार को रोजा रखा था। शाम को इफ्तारी के वक्त सभी एक साथ जमीन पर बैठे, मुस्लिम परिवार के साथ अपना रोज़ा खोला।

जी हां, भुसावल मे एक हिंदू बहेन जो की एक कालेज छात्रा है उस ने पवित्र रमजान का रोजा रख कर एकता का परिचय दिया है। 19 वर्षीय राखी विनोद ठाकुर ने अपनी माॅ से कहा कि वह रमजान के पवित्र महिने का रोजा रखना चाहती है।

बेटी की यह बात सुनकर उस की माॅ को बहोत खूशी हुवी और साथ मे चिंता भी होने लगी के राखी कैसे दिन भर यानी 15 घंटे बगैर कुच्छ खाए पिए कैसे रोजा रखेगी ? मगर फिर भी माँ ने राखी को रोज़ा रखने की ईजाज़त दे दी।

राखी ठाकुर ने रात मे 3 बजे ऊठ कर खाना खाया और पानी पिया(सहरी की) और पुरा दिन बगैर कुच्छ खाए पिए गुज़ारा और अपना रोजा पुरा किया राखी ठाकुर ने रोजा रखा ये खबर जब मुस्लिम पडोसी मनियार बिरादरी के सैय्यद फारूख अली को मिली तो फारूख भाई ने राखी ओर उस की माॅ को अपने घर बुलाया।

सैय्यद फारूख अली ने कहा की पड़ोस में रहने वाली राखी ठाकुर ने पवित्र रमजान माह में धर्म के अनेक बंधनों को तोड़ते हुए अनूठी मिसाल पेश की तड़के 3 बजे सेहरी से पहले ही कुछ खाया-पिया था।

इसके बाद वे सारा दिन उस परवरदिगार के सजदे में भूखे-प्यासे रहे जिसको अल्लाह कुबूल करेगा। फारूख सहाब ने राखी ठाकुर और उनकी माँ को अपने घर बुलाकर पुरे परिवार के साथ बैठाकर सभी ने एक साथ रोजा खोला।