विडियो: डॉ ज़ाकिर नाईक ने विडियो जारी कर भारतीय मीडिया की खोली पोल, बोले टीआरपी बटोरने के लिए…

नई दिल्ली: मुस्लिम धर्मगुरु उपदेशक डॉ ज़ाकिर नाईक की हल ही में मलेशिया में गिरफ्तारी को लेकर भारतीय मिडिया ने अफ़्वहा फैलाई थी जिसका डॉ ज़ाकिर नाईक ने एक वीडियो जारी कर भारतीय मिडिया करतूतों का खुलासा किया है।

भारतीय मिडिया ने डॉ ज़ाकिर नाईक की ब्रैकिंग न्यूज़ चलाते हुए दिखाया था जिसमे कहा गया की डॉ ज़ाकिर नाईक भारत लौट रहा है. वर्ष 2016 में ढाका में हुए आतंकवादी हमले में शामिल ISIS के आतंकियों को ज़ाकिर नाइक के भाषणों से ही प्रेरणा मिली थी. जिस मामले को लेकर मलेशियाई सरकार गिरफ्तार कर भारत को सौपे गया।

बता दें कि हाल ही में कुछ खबरें आई थी कि मलेशिया सरकार जाकिर नाईक को भारत को सौंप सकती है, लेकिन बाद में ये खबरें झूठी निकली थी. मलेशिया सरकार ने जाकिर को भारत को सौंपने से इनकार कर दिया है.

मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कहा है कि वो भारत के विवादित मुस्लिम उपदेशक जाकिर नाईक को आसानी से महज इसीलिए नहीं डिपोर्ट कर देंगे क्योंकि भारत ऐसा चाहता है. मेलशिया सरकार का ये कदम भारत के लिए झटका माना जा रहा है।

जाकिर नाईक ने कहा है कि मीडिया में मेरे खिलाफ खबरों की बाढ़ सी आई है. कुछ लोग मुझ पर आतंकवादियों को शह देने का इल्जाम लगा रहे हैं. ऐसी खबरों से इस्लाम के प्रति धारणा गलत धारणा बनाने की कोशिश की जा रही है. जब उनको मेरे खिलाफ सबूत नहीं मिले तो वीडियो क्लिप्स में कांट-छांट कर मेरे बयानों को गलत तरीके से पेश किया. मनी लॉन्ड्रिंग के मामलों में अभियुक्त बनाने की कोशिश जा रही है।

इस मामले में ज़ाकिर नाईक ने बकायदा एक वीडियो शूट करके सफाई दी है। उन्होंने अपने ऊपर लग रहे आरोपों को निरधार बताते हुए कहा कि एक बांग्लादेशी अखबार ने बिना किसी सबूत के आतंकवादियों को मुझसे जोड़ दिया और भारतीय मीडिया ने भी बिना रिसर्च के मुझे जिम्मेदार ठहरा दिया।

 

जिसमे डॉ ज़ाकिर नाईक ने भारतीय न्यूज़ चैनल Times now, republic tv, ndtv, abp news और तमाम न्यूज़ पोर्टल और अखबारों का नाम लेते हुए कहा की बिना किसी साबुत के भारतीय मीडिया मेरे खिलाफ न्यूज़ चला रहा है।