इस्लामिक देशों के खिलाफ अमेरिका ने छेड़ रहा मनोवैज्ञानिक युद्ध: रुहानी

अमेरिका द्वारा ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों को ईरान के राष्ट्रपति द्वारा मनोवैज्ञानिक युद्ध करार दिया गया. साथ ही उन्होंने इसकी कड़ी आलोचना की है. उन्होंने इन प्रतिबंधों को इस्लामिक देशों के खिलाफ कार्रवाई बताया उन्होंने यह बात एक सरकरी टीवी चैनल को दिए गए अपने इंटरव्यू के दौरान कही.

ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमेरिका द्वारा एक बार फिर ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों को लेकर कहा कि अमेरिका इस्लामिक देश के खिलाफ मनौवैज्ञानिक युद्ध छेड़ रहा है. उन्होंने कहा कि हम समझ नहीं पा रहे है एक तरह अमेरिका हमारे साथ नए सिरे से परमाणु समझौता करने की बात कर रहा है.

वहीँ दूसरी तरह उसी समय इस तरह के प्रतिबंध लगा रहा है. आखिर अमेरिका की निति क्या है. रूहानी ने कहा कि अगर आप दुश्मन है और आप अपने विरोधी व्यक्ति पर चाकू से वार करते है इसके बाद आप कहे कि आप हमसे बातचीत करना चाहते है तो ऐसा करने के लिए आप को पहले चाकू हटाना ही पड़ेगा.

वहीँ ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ ने कहा कि बेशक अमेरिका धमकाने और राजनीतिक दबाव बनाकर ईरान के लिए कुछ मुश्किलें जरूर पैदा कर सकती है इसमें कोई शक नहीं है. लेकिन एक बात तो साफ है कि वर्तमान दुनिया में अमेरिका अलग थलग पड़ गया है.

आपको बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर नए सिरे से एक बार फिर से प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया है इसके आलवा वह ईरान के साथ नए परमाणु समझौते तो लेकर बातचीत करने की मंशा रखता है. इसके लिए उन्होंने ईरानी राष्ट्रपति से बातचीत करने की इच्छा जाहिर की है.