जम्‍मू: पहली बार किसी रोहिंग्‍या के पास मिले 30 लाख रुपये कैश, झुग्‍गी से तीन गिरफ्तार

जम्‍मू के चन्‍नी हिम्‍मत इलाके में एक झुग्‍गी से 30 लाख रुपये की नकदी बरामद की गई है. इस मामले को लेकर पुलिस ने एक रोहिंग्‍या परिवार के तीन सदस्‍यों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है. पुलिस के सूत्रों के हवाले से खबर है कि यह छापा पुलिस ने मुखबिरों से मिली जानकारी के बाद मारा था.

रोहिंग्या परिवार के पास से 30 लाख रुपये बरामद किये गए है जिनमें 500 और 2000 रुपये के नए नोटों में 27 लाख रुपये तथा बाकी कम राशि के नोटों में नकदी मिली है. ऐसा पहली बार है जब म्‍यांमार से यहां आए किसी रोहिंग्‍या परिवार के पास से इतनी बड़ी रकम प्राप्त हुई है.

रोहिंग्‍या भारत में छोटी-मोटी नौकरियां करते हैं. सूत्रों के अनुसार पकड़े गए रोहिंग्‍या ने बताया कि ये पैसा इस्‍माइल 19 और नूर आलम 21 का है. पुलिस को उन्‍होंने कहा कि इस्माइल और नूरू आलम दो-तीन दिन पहले बांग्‍लादेश चले गए है वहीँ पकड़े गए तीनों रोहिंग्‍या यह नहीं बता सके कि बिना वैध वीजा के वे दोनों बांग्‍लादेश कैसे जा सकते हैं.

यह युवा जम्‍मू में पिछले पांच-छह साल से रह रहे थे. प्राप्त हुई जानकारी के मुताबिक बरामद की गई नकदी को एक प्‍लास्टिक कंटेंनर में कबाड़ के नीचे सूटकेस में छिपाकर रखा गया था. पुलिस इस मामले को लेकर विभिन्‍न संभावनाओं को लेकर काम कर रही हैं जैसे आतंकी गतिविधियों के लिए हवाला का पैसा, म्‍यांमार से मानव तस्‍करी, ड्रग्‍स या फिर चोरी.

जम्‍मू-कश्‍मीर में रोहिंग्‍या की बढ़ती तादाद को देखते हुए कई संस्‍थाएं जैसे जम्‍मू चैम्‍बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री तथा जम्‍मू एंड कश्‍मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी उन्‍हें निर्वासित किए जाने को लेकर मांग करते रहे है. वहीँ रोहिंग्‍या को देश की कई बड़ी संस्‍थाओं ने देश की सुरक्षा के लिए खतरा बताया है.