सऊदी में बरसी एक और खज़ाने की रहमत, अब अमीरी के मामले में सऊदी को कोई नहीं पछाड़ सकता

सऊदी अरब दुनिया में तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था वाला देश है. सऊदी दुनिया का सबसे बड़ा तेल उत्पादक और निर्यातक देश है और गैस भंडार के मामले में दुनिया में छठा स्थान रखता है. मौजूदा समय में सऊदी के पास तेल का भंडार इतनी बड़ी मात्रा में है की उसी से सऊदी की पूरी अर्थव्यवस्था चल रही है.

सऊदी अरब में जब से सलमान क्राउन प्रिंस बने है तब से ही लगातार सऊदी में आर्थिक और सामाजिक बदलाव देखने को मिल रहे है जिससे की सऊदी अरब में दुनिया में अलग मुकाम पर पहुँचाया जा सके है. खबरे के अनुसार सऊदी अरब ने तेल उत्पादन में बढ़ोत्तरी करने का फैसला लिया है.

इस समय दुनिया भर में कच्चे तेल के दाम बढ़ रहे है इसके चलते यह फैसला लिया गया और खबरों की माने तो सलमान ने यह फैसला अमेरिकी राष्ट्रपति के आग्रह के बाद लिया है. इसके आलावा सऊदी के लिए एक बड़ी खुश खबरी भी आई है. सऊदी में एक बड़ा तेल जखीरा होने का दावा किया जा रहा है.

यह दावा सऊदी अरब की आयल कंपनी अरामको के पूर्व सलाहकार और अलसऊद यूनिवर्सिटी में भूविज्ञान के प्रोफेसर अब्दुल अजीज बिन लाबून द्वारा किया जा रहा है. प्रोफेसर लाबून ने दावा किया है कि सऊदी अरब के दक्षिण में बतहा गुज़रगाह में तेल के भंडार भरे पड़े हुए है.

उन्होंने दावा किया है कि इस क्षेत्र में 40 करोड़ बैरल की मात्रा में तेल है उनके इस खुलासे के बाद से ही सनसनी मच गई है. अगर सऊदी यह तेल भंडार निकल लेता है तो दुनिया भर से तेल की कीमतों में गिरावट भी देखने को मिलेगी. वहीँ खबर आ रही है कि सऊदी में कुछ गैस के भंडार भी मौजूद है.

अगर सऊदी यहां से तेल का उत्पादन शुरू कर देता है तो दुनिया भर में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट होगी जिससे भारत जैसे देशों में पेट्रोल और डीजल की कीमते गिरेगी और जनता को राहत भी मिलेगी. इसके आलावा सऊदी यह तेल निकल लेता है तो सऊदी दुनिया का सबसे आमिर देश भी बन सकता है ऐसा मना जा रहा है.