VIDEO: प्रशासन ने मंदिर से उतारे लाउडस्पीकर तो नाराज़ हिन्दुओं ने छोड़ा गांव, मुसलमानों की पहल से वापस लौटे सभी लोग

उत्तर प्रदेश: बिजनौर जिले के कस्बे गारबपुर में बूढ़े बाबा के मंदिर पर लाउडस्पीकर लगाने को लेकर कई दिनों से विवाद चल रहा था, बीते शुक्रवार को इस विवाद का निपटारा हो गया. भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष और मुस्लिम समाज के जिम्मेदार लोगों के पहल के बाद आपसी सहमति बन गई है।

दरअसल इस गांव के कुछ हिन्दू परिवारों ने लाउडस्पीकर के उतारे जाने से नाराज होकर गांव ही छोड़ ही दिया था, जिसके बाद मुस्लिम समाज के लोगों ने शुक्रवार को खुद खेत में पहुंचकर उन से वापस चलने की अपील कर सौहार्द और एकता की मिसाल पेश की।

पलायन करने वाले हिन्दू परिवार मुस्लिम समाज की तरफ से की गई इस पहल के बाद वापस घर लौट गए. साथ ही लाउडस्पीकर को लेकर मुसलमानों ने हिन्दू परिवारों से कहा की आप गांव वापस चलिये हम आपका लाउडस्पीकर लगवायेंगे।

यह बूढ़े बाबा का मंदिर कोतवाली थाना क्षेत्र के गांव गारबपुर में स्थित है. इस दशक से एक मंदिर पर मेला लगता है. लेकिन इस बार मंदिर पर लाउडस्पीकर को लेकर विवाद चल रहा है. हिन्दू पक्ष का आरोप है कि पुलिस ने मस्जिद पर तो बगैर अनुमति के ही लाउडस्पीकर लगवा दिया था, लेकिन बाबा के देवस्थल पर नहीं लगाने दिया गया।

मंगलवार को मंदिर से लाउडस्पीकर उतरने से नाराज होकर को गांव के भोगेंद्र सिंह, मान सिंह व अजयपाल सिंह अपने मवेशी और खाने पीने का सामान लेकर चले गए. उन्होंने मंसूरी रोड पर जंगल में तंबू गाड़ दिया थे. यह विवाद पुलिस-प्रशासन के दखल के बाद भी नहीं निपट सका था. हिंदू पक्ष लाउडस्पीकर लगाने की जिद पर अड़े था।

 

मामला इस तरह बड़ा के इसकी गूंज लखनऊ तक पहुंची थी, कई दिन तक चले नाटकीय घटनाक्रम में पुलिस-प्रशासन भी हल नहीं निकाल पाए थे. बीते शुक्रवार को भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष दिगम्बर सिंह पदाधिकारियों ने दोनों पक्षों से बातचीत की।

इस बातचीत के बाद दिगम्बर सिंह मुस्लिम समुदाय के जिम्मेदार लोगों को लेकर पलायन कर ठहरे हुए परिवारों के पास पहुंच गए. वहां उन्होंने खेत में दोनों पक्षों में बातचीत की. लाउडस्पीकर को लेकर दोनों पक्षों में काफी देर तक बातचीत हुई और फिर दोनों पक्षों में सुलह हो गई।

हिन्दू परिवारों से मुस्लिम समुदाय के लोगों ने वापस गांव चलने की अपील की और उनका सामान वहां मौजूद दूसरे लोगों के साथ मिलकर वहां से लिया और गांव लौट गए. इस सौहार्द पूर्ण  और एकता मिसाल लेकर काफी चर्चाएं हैं।

 

मुसलमान समाज आपसी सहमति से एक तारीख निश्चित कर लाउडस्पीकर लगवाने पर राजी हो गया है. इस दौरान भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष दिगम्बर सिंह, वीर सिंह, नितिन, लाखन, प्रीतम, अजयपाल सह, शकील प्रधान, हकीमुद्दीन, अकरम, सरफराज, अब्दुल गफ्फार, आशिक अधिकवक्ता आदि लोग मौजूद थे।