वीडियो: पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर बाबा रामदेव बोले- गणपति से करेंगे प्रार्थना जल्द हो कीमतें काम

नई दिल्लीः देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों लेकर योग गुरु और व्यापारी बाबा रामदेव ने कहा कि वे कीमतें कम करने के लिए भगवान गणपति से प्रार्थना करेंगे। बाबा रामदेव ने आजतक के शो ‘सीधी बात’ में एंकर श्वेता सिंह के सवालों के जवाब दिए. जब रामदेव से पूछा गया कि आप GST से आतंकित नहीं हुए? तो उन्होंने कहा, जब कोई नया सिस्टम आता है तो तो थोड़ी बहुत समस्या आती है काफी व्यापारी लोग थोड़े दुखी हैं, नाराज हैं और वो उनको झेलना भी पड़ रहा है।

कच्चे तेल की कीमतों के आधार पर तय हों कीमतें

गुरुवार आज (13 सितंबर) पतंजलि के दूध उत्पादों की लॉन्चिंग के मौके पर आयोजित प्रेस वार्ता न्यूज चैनल आजतक के एक कार्यक्रम में शिरकत हुए प्रेस वार्ता में बाबा रामदेव ने देश के कई मुद्दों पर अपनी राय दी रामदेव ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर गोलमोल सा जवाब दिया। हालांकि उन्होंने माना कि सरकार कहती है कि देश चलाना है, तो उन्होंने पेट्रोल-डीजल पर सबसे ज्यादा टैक्स ठोक रखा है।

पेट्रोल-डीजल तो सरकार के कब्जे में है

प्रेस वार्ता में बाबा रामदेव से महंगाई को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने स्वीकार किया कि देश में महंगाई बढ़ी है। रामदेव ने कहा, हम डीजल पेट्रोल तो सस्ता कर नहीं सकते हैं क्योंकि वो तो सरकार के कब्जे में है, लेकिन हमारे कब्जे में जो है उसमें हम लोगों को फायदा पहुंचाने की कोशिश करते हैं।

जब बाबा रामदेव से पूछा गया कि क्या वे महंगाई के मुद्दे पर मोदी सरकार को बचाने की कोशिश कर रहे हैं, तो उन्होंने कहा की हाल के दिनों में क्रूड ऑय़ल थोड़ा सा बढ़ा है डीजल पेट्रोल में जिस तरह से आग लगी हुई है।

मोदी जी ना बहरे हैं ना वो गूंगे हैं

रामदेव ने कहा की यदि सरकार डीजल पेट्रोल पर टैक्स खत्म कर देती है तो डीजल पेट्रोल आज भी चालीस रुपये में मिल सकता है लेकिन फिर देश कैसे चलेगा मोदी जी अभी सही सलामत हैं ना वो बहरे हैं ना वो गूंगे हैं वो सुन भी रहे होंगे 2019 का महासंग्राम नजदीक है उनको ये महंगाई की आग बुझानी पड़ेगी नहीं तो बहुत महंगी पड़ेगी।

बाबा रामदेव से कालाधन को लेकर सवाल

वहीं कालाधन भारत लाने के सवाल पर बाबा रामदेव ने कहा कि कालाधन लूटने वालों को जल्द से जल्द भारत लाया जा जाए और उन्हें उनके किए की सजा दी जाए। उन्होंने कहा कि कई लाख करोड़ रुपए यानी 5 से 7 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा देश से बाहर है।