बीजेपी नेता ने अपने खास समर्थक की बहन को भी नहीं छोड़ा बनाया जबरन संबंध

नई दिल्ली: बिहार में बीजेपी नेता कृष्णा शाही की ह$त्या के मामले में पुलिस ने चार महिलाओं सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपियों में मृ!तक नेता के एक करीबी आदित्य राय भी शामिल है. आदित्य के घर जाने के बाद से ही मृत!क नेता गायब था. जिसके बाद बुधवार को उनकी ला$श आरोपी के घर के पास बने एक कुएं से बरामद की गई थी. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

मामला बिहार के गोपालगंज का है. कृष्णा शाही बीजेपी के व्यवसाई प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रभारी थे. कई सालों तक वो पंचायत मुखिया भी रहे. बीते मंगलवार की रात मृ$तक अपने करीबी आदित्य के घर बसवडिया मांझा गांव गए थे. तभी से वह गायब थे. उनके परिजनों ने इस बात की शिकायत पुलिस में की थी. पीड़ित नेता के गायब होने के अगले ही दिन उनकी ला$श कुएं में होने की सूचना पुलिस को दी गई थी।

पुलिस ने बुधवार को गोपालगंज में बीजेपी नेता कृष्णा शाही का श!व एक कुएं से बरामद किया था। पुलिस का कहना है कि पूछताछ के दौरान आदित्य राय ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. इससे पहले शाही की ह$त्या को एक पॉलिटिकल किलिंग माना जा रहा था। शाही के भाई ने विधायक पप्पू पांडे पर ह$त्या का आरोप लगाया था।

राय ने आगे बताया, बीते दिनों जब कृष्णा उनके घर गया तो कृष्णा उसकी बहन से फोन पर बात कर रहा था. उसने दोनों की बातचीत सुन ली थी. भाजपा नेता ने कार्यकर्ता की बहन से कहा कि वो रात 12 बजे उसके घर आएगा। यह सुनते ही आदित्य आग बबूला हो गया और उसने अपने आदर्श भाजपा नेता की ह$त्या करने की ठान ली।

आदित्य कीटनाशक की दुकान से जहर खरीद कर लाया. रात 12 बजे कृष्णा आदित्य के घर पहुंचा। आदित्य ने जब दरवाजा खोला तो कृष्णा पुलिस से झगड़ा होने का बहाना बनाते हुए देर रात उसके घर आने की बात कहने लगा. पुलिस के छापे के डर से उसने रात में वहीं रुकने की बात कही। आदित्य ने सबकुछ जानते हुए भी भाजपा नेता को अपने घर आने दिया और खाना भी खिलाया लेकिन खाने में जहर मिला दिया।

जिसे खाने के बाद कृष्णा को घबराहट होने लगी. उसे जहर का संदेह हुआ तो वो बदहवास होकर बाहर की तरफ भाग और पास ही एक अंधेरे कुए में जा गिरा. आरोपी के इकबाल-ए-जुर्म के बाद पुलिस ने उसके खिलाफ ह$त्या का केस दर्ज कर लिया है।