वीडियो: आरएसएस ने जेएनयू परिसर से मंदिर वहीं बनेगा नारे के साथ निकली रैली, माहौल खराब करने का किये प्रयास

देश की राजधानी स्थित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय जेएनयू में बुधवार की सुबह करीबन ९ बजे तनाव की स्थिति बनने से हालत पैदा किये गए. यूनिवर्सिटी में उस समय हंगामे की स्थिति बन गई जब कुछ लोग ट्रक कार और बाइकों पर सवार होकर राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में समर्थन जुटाने के उद्देश्य से युनिवर्सिटी परिसर में पहुंच गए. इतना ही नही इस दौरान कई तरह के साम्प्रदायिक गानें भी बजाए गए. इस मामले से जुड़े कुछ वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे है.

सोशल मीडिया पर इस घटना को विश्वविद्यालय का माहौल खराब करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. बताया जा रहा है कि यह लोग कथित तौर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए एक संगठन से थे. वीडियो में नजर आ रहा है कि करीब 40 से 50 लोग भगवा झंडा लिए हुए है और मंदिर वहीं बनाएंगे के नारे लगा रहे है.

मीडिया में आई खबरों के अनुसार यह रैली सुबह ९ बजे जेएनयू कैंपस में सरस्वतीपुरम गेट से दाखिल हुई और कैंपस के रिंग रोड से होते हुए 10 बजे बाहर निकल गई. वहीँ यूनिवर्सिटी में पढ़ाने वाले एक टीचर का कहना है कि मैंने कैंपस में इस तरह की कोई रैली पहली बार देखी है.

उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार देखने को मिला है कि किन्ही बाहरी लोगों को न सिर्फ कैंपस में एंट्री दी गई हो बल्कि वे लोग बड़े से ट्रक और बाइक पर सवार थे. इतना ही नही सभी लोग राम मंदिर के समर्थन में नारे लगाते हुए नजर आए थे. और उनके हाथ में भगवा झंडे थे जिन्हें वो लहरा रहे थे.

इस दौरान मुस्जिक सिस्टम पर सांप्रदायिक गाने भी चलाए जा रहे थे. बताया जा रहा है कई कि जेएनयू छात्र संघ ने बाहरी लोगों के गैर कानूनी रूप से परिसर में घुसने को लेकर वीसी समक्ष को शिकायत दर्ज कराई है. वहीँ इडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार छात्र संघ का आरोप है कि यह लोग सांप्रदायिक नारेबारी से कैंपस का माहौल खराब किया है.

वहीं आरएसएस से जुड़े हुए स्वदेशी जागरण मंच (SJM) और एबीवीपी ने इस मामले को स्वीकार किया है कि ऐसी रैली जेएनयू के माध्यम से की गई है. वहीँ विश्वविद्यालय प्रशासन ने तस्वीरों और वीडियो को फर्जी करार देते हुए दावा किया है कि वह बाहरी लोग एक कर्मचारी के निवास स्थल पर पूजा अर्चना करने के लिए जेएनयू में दाखिल हुए थे.