मुस्लिम ऑफिसर का छलका दर्द, कहा-मुसलमान होने की वजह से भुगत रहा हूँ

भोपाल: मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में एक मुस्लिम अधिकारी पीएचई विभाग में उपसचिव नियाज़ अहमद खान ने ट्वीट कर उनके साथ एक सीनियर ऑफिसर द्वारा किए गए दुर्व्यव$हार की घटना का पोस्ट करके अपना दर्द बयान किया है। नियाज़ अहमद खान के साथ हुए दुर्व्यव$हार की घटना को ट्वीट पर पोस्ट के बाद से इस बात को लेकर हंगामा मचा हुआ है|

Image: Google

दरअसल नियाज खान ने ट्विटर पर अपना दर्द बया किया, अपने साथ हुए इस दुर्व्यवहार की घटना के बाद लिखा। नियाज अहमद खान का आरोप है कि मंत्रालय में उनके सीनियर अफसर ने बैठक के दौरान उनसे दुर्व्यव$हार किया।

जिसके बाद उन्होंने काफी सोचा और आखिरकार सोशल मीडिया पर अपने साथ हुए दुर्व्यव$हार की घटना का जिक्र कर दिया। आपको बता दें न्यूज़ चैनल आज तक ने नियाज अहमद खान से बात की तो उन्होंने बताया कि मुझे ट्विटर का सहारा लेना पड़ा क्योंकि पानी सिर के ऊपर जा चुका था।

बातचीत के दौरान नियाज अहमद खान ने कहा कि 17 सालों में 10 जिलों में 19 बार विभाग बदले गए या तबादले हुए लेकिन मैंने अपना काम हमेशा ईमानदारी से किया और ईमानदारी से काम करने के बावजूद मुझे हर वक्त निशाना बनाया गया।

नियाज अहमद खान ने बातचीत के दौरान कहा कि मेरा निजी अनुभव है कि मैं जिस धर्म से आता हूं उसके कारण ही मेरे साथ ये सब कुछ हो रहा है। क्योंकि मुझे कई बार ये अहसास कराया गया कि मैं किस धर्म से आता हूं’।

नियाज ने गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि वो भोपाल में सालभर से हैं लेकिन उन्हें अब तक सरकारी घर नही दिया गया है|जबकि उनके साथ वाले लगभग सभी लोगों को सरकारी आवास मिल चुका है।

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के गुना जिले में पूर्व जिला अपर कलेक्टर के पद पर आसीन रहे ईमानदार और निष्पक्ष अफसर नियाज अहमद खान ने श्मशान घाट, खुले में शौच और आवास योजना में करोड़ों का घोटाला उजागर किया था।

लेकिन इस घोटाले को सामने लाने वाले नियाज अहमद खान से प्रशासन ने गुपचुप तरीके से जिला पंचायत सीओ का प्रभार वापस ले लिया। जिस दिन उनका प्रभार लिए जाने की तैयारी थी, उसी दिन उन्होंने ओडीएफ गांव के शौचालयों के गेट में करोड़ों का घोटाला उजागर किया था।