सऊदी अरब ने यहाँ के लोगों को हज का वीजा देने से किया इंकार, चारों तरफ हो रही है बदनामी

सऊदी अरब से एक ऐसे खबर सामने आई है जिसकी पूरी इस्लामी दुनिया में आलोचना हो रही है. सऊदी के इस कदम को लेकर इस्लामिक देश और संस्थाओं ने सऊदी की कड़े शब्दों में निंदा की है. दरअसल सऊदी अरब ने फिलिस्तीनी शरणार्थी को हज के लिए वीजा देने से साफ शब्दों में इनकार कर दिया है.

जॉर्डन की समाचार वेबसाइट रोआया की रिपोर्ट के अनुसार यह फिलिस्तीनी शरणार्थी जो मूल रूप से गाज़ा के हैं. इन फ्लिस्तिनी शरणार्थी का कहना है कि अम्मान में स्थित सऊदी दूतावास के द्वारा उन्हें हज यात्रा के लिए सऊदी अरब का वीजा जारी करने से इंकार कर दिया है.

न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार जॉर्डन के अधिकारियों ने सऊदी अरब से इन शरणार्थियों को हज वीज़ा जारी नहीं करने के लिए कहा था. जिसके बाद फिलिस्तीनी शरणार्थी को सऊदी दूतावास द्वारा वीजा जारी नहीं किया गया.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के अनुसार एक गाज़ा के फिलिस्तीनी शरणार्थी जो कि काफी समय से जॉर्डन में निवास कर रहे है. उन्होंने बताया कि जब वह हज वीजा पाने के लिए सऊदी दूतावास पहुंचे तो वह जान कर हैरान रह गये कि उन्हें हज वीजा जारी नही किया जाएगा.

जिसका कारण है कि सऊदी अधिकारीयों द्वारा जॉर्डन के अधिकारियों के अनुरोध पर उनका वीजा के लिए किया गया अनुरोध ख़ारिज कर दिया गया था.

सफा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार गाजा से 158,000 फिलिस्तीनी शरणार्थी हैं जो 1967 इजराइल-फिलिस्तीन युद्ध के बाद से जॉर्डन में रह रहें है. इन लोगों के पास अस्थायी जॉर्डनियन पासपोर्ट है और उनके पास स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा जॉर्डन नागरिकों के जैसे समान अधिकार नहीं है.